Sunday, March 3, 2024

Top 100 FAQ VB.Net Programming Part-1

टॉप 100 FAQ विजुअल बेसिक डॉट नेट | FAQ VB.Net | Top 100 FAQ VB.Net Programming

Top 100 FAQ VB.Net Programming – Top 100 FAQ विजुअल बेसिक डॉट नेट | FAQ VB.Net | Top 100 FAQ VB.Net Programming | शीर्ष 100 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न VB.Net प्रोग्रामिंगvb.net kya hai, vb.net kya hota hai, vb dot net kya hai, vb.net me assemblies kya hai, vb.net framework se kya tatparya hai, विज़ुअल बेसिक डॉटनेट क्या है? What is VB.Net? in Hindi, ple also ask, वीबी नेट का क्या फायदा है?,

वीबी नेट में क्या खास है?, वीबी नेट सीखने में कितना समय लगता है?, VB net क्या है इसके गुणों को समझाइए?, विज़ुअल बेसिक डॉटनेट क्या है?, vb net notes in hindi pdf download, vb.net framework in hindi, vb.net me data type in hindi, vb net framework से क्या तात्पर्य है इसकी विशेषताएं समझाइए, डॉट नेट क्या है in hindi, exception handling in vb.net in hindi, विजुअल स्टूडियो क्या है, विजुअल बेसिक इन हिंदी नोट्स pdf, डॉट नेट क्या है ? इसकी उपयोगिता बतायें, डॉट नेट और इन्टरनेट के सम्बन्ध को बतायें,

क्या आप वी० बी० डॉट नेट तथा java के मेल से प्रोग्राम को विकसित कर सकते हैं? कारण बतायें, डॉट नेट फ्रेमवर्क की पाँच कमियों को बतायें, डॉट नेट फ्रेमवर्क क्या है ?, डॉट नेट फ्रेमवर्क के मुख्य फीचरों का उल्लेख करें, क्लास लायब्रेरी को समझायें, कॉमन लैंग्वेज रनटाइम का सविस्तार वर्णन करें, कॉमन लैंग्वेज रनटाइम की चार भूमिकाओं को बताएँ, एम० एस० आई० एल० की व्याख्या करें, असेम्बलीज को समझायें, नेमस्पेसेज क्या हैं?,

वी०बी० डॉट नेट पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखें, वी० बी० डॉट नेट के पक्ष तथा विपक्ष की चर्चा करें, वी० बी० डॉट नेट के विकास क्रम को समझाइये, माइक्रोसॉफ्ट डॉट नेट फ्रेमवर्क के सभी संस्करणों के बारे में बतायें

टॉप 100 FAQ विजुअल बेसिक डॉट नेट | FAQ VB.Net | Top 100 FAQ VB.Net Programming
टॉप 100 FAQ विजुअल बेसिक डॉट नेट | FAQ VB.Net | Top 100 FAQ VB.Net Programming

टॉप 100 FAQ विजुअल बेसिक डॉट नेट | Top 100 FAQ VB.Net Programming

Question-1: एक्सेस कंट्रोल लिस्ट क्या है एवं कार्य (Access Control List)
Ans एक्सेस कंट्रोल लिस्ट सुरक्षा बचावों की एक सूची है जो ऑब्जेक्ट पर लागू होता है। ऑब्जेक्ट कोई फाइल, प्रोसेस, इवेण्ट या कुछ भी हो सकता है जिसमें सुरक्षा वर्णन (security description) उपलब्ध हो। एक्सेस कंट्रोल लिस्ट की एंट्री (access control entry) एक्सेस कंट्रोल एंट्री कही जाती है। एक्सेस कंट्रोल लिस्ट डिस्क्रेशनरी (discretionary) तथा सिस्टम दो प्रकार के होते हैं।

Question-2: अडू डॉट नेट क्या है एवं कार्य (ADO.Net)
Ans अडू डॉट नेट डॉट नेट फ्रेमवर्क क्लास लायब्रेरिज़ में सम्मिलित डाटा एक्सेस प्रौद्योगिकियों का एक सूईट (सेट) है जो रिलेशनल डाटा तथा एक्स. एम. एल. एक्सेस प्रदान करता है। अडू डॉट नेट कई क्लासों से मिलकर बने होते हैं जो डाटासेट (यथा सारणी, पंक्ति, कॉलम, रिलेशनस इत्यादि), डॉट नेट फ्रेमवर्क डाटा प्रोवाइडर्स तथा कस्टम टाइप परिभाषाओं (यथा एस. क्यू. एल. सर्वर के लिए (SqlTypes) का निर्माण करते हैं।

Question-3: एल्फा चैनल क्या है एवं कार्य (Alpha Channel)
जी. डी. आई. प्लस (GDI+) में एल्फा चैनल पिक्सेल कलर डाटा का वह भाग होता है जो पारदर्शी सूचना के लिए सुरक्षित होता है।

Question-4: एप्लीकेशन बेस क्या है एवं कार्य (Application Base)
Ans एप्लीकेशन बेस वह डायरेक्ट्री है जहाँ प्रारम्भिक अथवा डिफॉल्ट डोमेन को लोड करने वाली एक्जिक्यूटेबल (.exe) फाइल स्थित होता है।

Question-5: एप्लीकेशन डोमेन क्या है एवं कार्य (Application Domain)
Ans- एप्लीकेशन डोमेन वह सीमा है जो एक समान एप्लीकेशन स्कोप के अंदर कॉमन लैंग्वेज रनटाइम द्वारा ऑब्जेक्ट के चारों ओर स्थापित होता है। एप्लीकेशन डोमेन्स एक एप्लीकेशन में बने ऑब्जेक्ट को अन्य एप्लीकेशन से बने ऑब्जेक्ट से अलग रखने में सहायता करता है ताकि रन टाइम आचरण-

• अनुमान लगाने योग्य (preditable) हो। एक से अधिक
• एप्लीकेशन डोमेन एक ही प्रोसेस में विद्यमान हो सकते हैं।

Question-6: एप्लीकेशन मैनिफेस्ट क्या है एवं कार्य (Application Manifest)
Ans एप्लीकेशन मैनिफेस्ट क्लिकवन्स (ClickOnce) एप्लीकेशनों में उपयोग होने वाला फाइल है जो एप्लीकेशन तथा सभी संबद्ध (constituent) फाइलों का वर्णन करता है।

Question-7: ए. एस. पी. डॉट नेट क्या है एवं कार्य (ASP.Net)
Ans- ए. एस. पी. डॉट नेट वेब एप्लीकेशन तथा एक्स. एम. एल. वेब सेवाओं (XML Web Services) के निर्माण के लिए माइक्रोसॉफ्ट डॉट नेट फ्रेमवर्क में प्रौद्योगिकियों का एक सेट है। ए. एस. पी. डॉट नेट पृष्ठ (ASP.Net Pages) सर्वर पर एक्जिक्यूट होते हैं तथा मार्कअप (यथा एच. टी. एम. एल. डब्ल्यू एम. एल. या एक्स. एम. एल.) का निर्माण करते हैं, जो डेस्कटॉप या मोबाइल ब्राउजर को भेजे जाते हैं।

ए एस. पी. डॉट नेट पृष्ठ कम्पाइल्ड, इवेण्ट चयनित प्रोग्रामिंग मॉडल का उपयोग करता है जो कार्य निष्पादन (performance) को बेहतर बनाता है तथा एप्लीकेशन लॉजिक और यूजर इंटरफेस को अलग रहने देता है। ए. एस. पी. डॉट नेट का उपयोग करके बनाये गये ए. एस. पी. डॉट नेट पृष्ठ तथा एक्स. एम. एल. वेब सेवाओं में विजुअल बेसिक अथवा किसी डॉट नेट कम्पैटिबल भाषा में लिखे गये सर्वर पक्ष (क्लाइण्ट पक्ष के बजाय) लॉजिक होते हैं।

वेब एप्लीकेशन तथा एक्स. एम. एल. वेब सेवाएँ कॉमन लैंग्वेज रनटाइम यथा टाइप सेफ्टी, इनहेरिटेन्स, भाषा इंटरऑपरे बिलिटि (interoperability), संस्करण (versioning) तथा एकीकृत सुरक्षा जैसे फीचरों का लाभ उठाता है।

Question-8: ऐंकरिंग क्या है एवं कार्य (Anchoring)
Ans ऐंकरिंग उस पेरेण्ट कंट्रोल के किनारों को तथा कंट्रोल पेरेण्ट कंट्रोल के साथ अपने आकार को कैसे बदलें यह निर्धारित करने की एक विधि है।

Question-9: एंटी एलिअसिंग क्या है एवं कार्य (Anti Alising)
Ans- ग्राफिक्स में एंटी एलिअसिंग लाइनों को उनके बैकग्राउण्ड के साथ मिलाकर उन्हें बिल्कुल सपाट (smooth) बनाने की प्रक्रिया है। 
Question-10: असेम्बली क्या है एवं कार्य (Assembly)
Ans- असेम्बली एक या एक से अधिक फाइलों का संकलन है जो एक यूनिट के रूप में रूपांतरित (versioned) तथा डिप्लॉय होता है। असेम्बली डॉट नेट फ्रेमवर्क एप्लीकेशन का प्राथमिक निर्माणकारी ब्लॉक होता है। सभी मैनेज्ड तथा रिर्सोसेज एक असेम्बली के अंदर रहता है तथा असेम्बली के अंदर अभिगम्य योग्य (accessible only within the assembly)

अथवा अन्य असेम्बली के कोड से अभिगम्य (accessible from code in other assemblies) की तरह चिन्हित होते हैं। असेम्बली सुरक्षा में भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। कोड एक्सेस सुरक्षा प्रणाली असेम्बली के बारे में सूचना प्राप्त कर उस असेम्बली के कोड के लिए अनुदानित (granted) अनुमति के सेट को निर्धारित करता है।

यह भी देखें :  कॉमन लैंग्वेज रनटाइम | Best Common Language Runtime

Question-11: असेम्बली कैश क्या है एवं कार्य (Assembly Cache)
Ans- असेम्बली कैश उस कोड कैश को कहा जाता है जो पास-पास असेम्बली संचय में उपयोग किया जाता है। कैश के दो भाग होते हैं। ग्लोबल असेम्बली कैश उन असेम्बली को रखता है जो कम्प्यूटर पर कई एप्लीकेशन के मध्य साझा करने के लिए स्पष्ट रूप से इन्स्टॉल किये जाते हैं।

डाउनलोड कैश इन्टरनेट या इन्टरनेट से डाउनलोड किये हुए कोड को स्टोर करता है तथा उस एप्लीकेशन में अलग से रहता है जिसके कारण यह डाउनलोड हुआ ताकि किसी एक एप्लीकेशन या पेज के लिए डाउनलोड किया गया कोड अन्य एप्लीकेशन को प्रभावित न करे।

Question-12: असेम्बली मेनिफेस्ट क्या है एवं कार्य (Assembly Manifest)
Ans- यह प्रत्येक असेम्बली का एक अभिन्न अंग होता है जिसके कारण असेम्बली स्व-वर्णनात्मक (self describing) होता है। असेम्बली मेनिफेस्ट में असेम्बली का मेटाडाटा होता है। मेनिफेस्ट असेम्बली की पहचान बताता है। उन फाइलों को स्पष्ट करता है जो असेम्बली इम्प्लेनटेशन का निर्माण करते हैं। उन टाइपस तथा संसाधनों को स्पष्ट करता है, जिसमें असेम्बली बना होता है।

अन्य असेम्बली पर कम्पाइल टाइम निर्भरता को सूचीबद्ध करता है तथा अनुमति (permissions) के सेट को स्पष्ट करता है जो असेम्बली के ठीक से कार्यान्वित होने के लिए आवश्यक होता है। इस सूचना का उपयोग रन टाइम के रेफ्रेन्स की समस्या को हल करने, संस्करण बाइन्डिंग पॉलिसी को लागू करने तथा लोड हुए असेम्बली की इंटिग्रिटी (integrity) को वैलिडेट करने में होता है। असेम्बली का स्ववर्णनात्मक फीचर शून्य प्रभाव (zero impact) इंस्टॉल करने तथा XCOPY डिप्लॉयमेन्ट को व्यवहारिक बनाने में सहायता करता है।

Question-13: असिंक्रोनस मेथड क्या है एवं कार्य (Asynchronous Method)
Ans यह उस मेथड कॉल को कहते हैं जो प्रोसेसिंग के पूर्ण होने या न होने (दोनों ही) की स्थिति में इमिडिएट कॉलर की और लौटता है। प्रोसेसिंग का परिणाम दूसरे थ्रेड पर दूसरे कॉल के माध्यम से प्राप्त होता है। असिंक्रोनस मेथड कॉल को प्रोसेसिंग के समाप्त होने तक प्रतिक्षा करने की परिस्थिति से मुक्त करता है।

Question-14: एट्रिब्यूट क्या है एवं कार्य (Attribute)
Ans एट्रिब्यूट टाइपस, फील्ड्स, मेथड्स तथा प्रॉपर्टी जैसे प्रोग्रामिंग अवयवों पर लागू किये जा सकने वाला एक वर्णनात्मक डिक्लेअरेशन होता है। एट्रिब्यूट डॉट नेट फ्रेमवर्क फाइल के मेटाडाटा के साथ सुरक्षित किया जाता है तथा इसका उपयोग कॉमन लैंग्वेज रनटाइम को कोड समझाने तथा रन टाइम में एप्लीकेशन आचरण को प्रभावित करने में किया जा सकता है।

Question-15: बाउण्ड्स क्या है एवं कार्य (Bounds)
Ans किसी ऑब्जेक्ट के आकार तथा लोकेशन को कहते हैं।

Question-16: बॉक्सिंग क्या है एवं कार्य (Boxing)

Ans बॉक्सिंग वैल्यू टाइप इंस्टैन्स से ऑब्जेक्ट में परिवर्तन की क्रिया है जो संकेत करता है कि इंस्टैन्स रन टाइम में संपूर्ण टाइप सूचना रखेगा तथा हीप (heap) में आवंटित किया जायेगा। माइक्रोसॉफ्ट इंटरमीडिएट लैंग्वेज इंस्ट्रक्शन सेट को Box निर्देश वैल्यू टाइप का कॉपी बनाकर तथा इसे एक नये आवरित ऑब्जेक्ट में समाकर वैल्यू टाइपको ऑब्जेक्ट में बदलता है।

Question-17: सी शार्प क्या है एवं कार्य (C#)
Ans सी शार्प डॉट नेट फ्रेमवर्क पर चलने योग्य व्यापारिक एप्लीकेशन को विकसित करने हेतु डिजायन की गयी एक प्रोग्रामिंग भाषा है। सी शार्प सी तथा सी ++ का ही एक सुपर सेट है। यह टाइप सुरक्षित (type safe) तथा ऑब्जेक्ट ओरिएन्टेड भाषा है। इसे मैनेज्ड कोड की भांति कम्पाइल किया जाता है। इसमें कॉमन लैंग्वेज रनटाइम की सेवाओं यथा लैंग्वेज इंटरऑपरेबिलिटि (interoperability) सुरक्षा तथा गार्बेज संकलन (collection) उपलब्ध है।

Question-18: सी. एच. टी. एम. एल. क्या है एवं कार्य (CHTML)
Ans यह एक मार्कअप भाषा है जो मोबाइल फोनों में उपयोग होता है। सी. एच. टी. एम. एल. तथा एच. टी. एम. एल. का ही एक सबसेट है, जिसमें मोबाइल फंक्शनलिटि को बचाने हेतु अतिरिक्त टैग्स उपलब्ध होते हैं।

Question-19: क्लास क्या है एवं कार्य (Class)
Ans- क्लास उस ऑब्जेक्ट तथा टेम्प्लेट का औपचारिक परिभाषा है, जिससे ऑब्जेक्ट जैसा ही एक नमूना (instance) बनाया जाता है। क्लास का मुख्य उद्देश्य उस क्लास के लिए प्रॉपर्टी तथा मेथड को परिभाषित करना है। यद्यपि क्लास की परिकल्पना विजुअल बेसिक के पिछले संस्करणों में भी उपलब्ध था, परन्तु वी. बी. डॉट नेट तथा इसके ऑब्जेक्ट ऑरिएन्टेड प्रोग्रामिंग में यह एक मुख्य तकनीकी है। क्लास के प्रमुख फीचरों में कुछ इस प्रकार है-

● क्लास में सब क्लास हो सकते हैं, जो क्लास के सभी फीचरों को या कुछ विशेष फीचरों को इनहेरिट करते हैं।
● सब क्लास अपने मेथड तथा वेरियेबल स्वयं डिफाइन कर सकते हैं जो पेरेण्ट क्लास का हिस्सा नहीं होता है।
● क्लास तथा उसके सब क्लास की संरचना क्लास हायरिक कहा जाता है।
मुख्य क्लास को पेरेण्ट क्लास, सुपर क्लास तथा बेस क्लास कहा जाता है तथा मुख्य क्लास से निकले नये क्लास को चाइल्ड क्लास, व्युत्पन्न क्लास (derived class) या सब क्लास कहा जाता है।

Question-20: कॉम क्या है एवं कार्य (COM)
Ans- कॉम का पूर्ण रूप कम्पोनेन्ट ऑब्जेक्ट मॉडल (Component Object Model) होता है, यद्यपि यह प्राय: माइक्रोसॉफ्ट के साथ संबद्ध होता है, यह एक मुक्त स्टैण्डर्ड है जो कम्पोनेन्ट्स के साथ कैसे कार्य करते हैं तथा कैसे ये इंटरऑपरेट करते हैं को स्पष्ट करता है। माइक्रोसॉफ्ट कॉम का उपयोग एक्टिव एक्स (ActiveX) तथा ओ. एल. ई. (OLE) के आधार के रूप में करता है।

कॉम ए. पी. आई. का उपयोग यह सुनिश्चित करता है कि सॉफ्टवेयर ऑब्जेक्ट को विजुअल बेसिक के साथ कई अन्य प्रोग्रामिंग भाषाओं का उपयोग कर लॉन्च किया जा सकता है। यह कम्पोनेन्ट प्रोग्रामर के द्वारा कोड को दोबारा लिखने से बचाते हैं। कम्पोनेन्ट बड़ा अथवा छोटा हो सकता है तथा किसी भी प्रकार का प्रोसेसिंग कर सकता है, परन्तु यह दोबारा उपयोग में लाये जाने योग्य होना चाहिए और इंटरऑपरेबिलिटि हेतु इसे स्टैण्डर्ड सेट करने वाले नियमों का अनुपालन करना चाहिए।

Question-21: कंट्रोल क्या है एवं कार्य (Control)
Ans कंट्रोल विजुअल बेसिक फॉर्म पर ऑब्जेक्ट बनाने हेतु उपयोग होने वाला टूल है। कंट्रोल को टूलबॉक्स से चयन किया जाता है तथा माउस प्वाइण्टर की सहायता से फॉर्म पर ऑब्जेक्ट बनाने के काम आता है। इसे समझना आवश्यक है कि कंट्रोल केबल जी. यू. आई. ऑब्जेक्ट बनाने के लिए एक टूल मात्र है। यह स्वयं ऑब्जेक्ट नहीं है।

यह भी देखें :  कंप्यूटर मेमोरी क्या है - मेमोरी कितने प्रकार की होती है | What Is Computer Memory - Best Info in Hindi

Question-22: डी. एल. एल. क्या है एवं कार्य (DLL)
Ans- डी. एल. एल. का पूर्ण रूप डायनामिक लिंक लायब्रेरी (Dynamic Link Library) होता है। यह फंक्शनों का एक सेट है जिसे एक्जिक्यूट किया जा सकता है अथवा वह डाय है जिसे विण्डोज एप्लीकेशन के द्वारा उपयोग में लाया जा सकता है। डी. एल. एल. फाइलों का विस्तारक (फाइल का प्रकार) भी है। उदाहरण के लिए, crypt32.dll माइक्रोसॉफ्ट ऑपरेटिंग सिस्टम पर क्रिप्टोग्राफी के लिए उपयोग होने वाला Crypto API32 DLL है। आप के कम्प्यूटर पर डी. एल. एल. सैकड़ों तथा हजारों की संख्या में इस्टॉल रहता है।

कुछ डी. एल. एल. एक विशेष एप्लीकेशन के द्वारा उपयोग किये जाते है, जबकि Crypt32.dII जैसे अन्य कई प्रकार के एप्लीकेशन के द्वारा उपयोग में लाये जाते हैं। इसके नाम के अनुसार इसमें फंक्शन की एक लायब्रेरी होती है, जिसे अन्य सॉफ्टवेयर के द्वारा माँग करने पर एक्सेस करवाया जा सकता है।

Question-23: एनकैप्सूलेशन क्या है एवं कार्य (Encapsulation)
Ans- एककैप्सूलेशन वह ऑब्जेक्ट ओरियेण्टेड प्रोग्रामिंग तकनीक है, जिनकी सहायता से प्रोग्रामर सम्पूर्ण रूप से ऑब्जेक्ट इंटरफेस (वह विधि जिससे ऑब्जेक्ट को कॉल किया जाता है तथा पैरामीटर पास किया जाता है) का उपयोग कर ऑब्जेक्ट के मध्य संबंध निर्धारित करता है।

एनकैप्सूलेशन के फायदे यह है कि आप त्रुटियों को नजरअंदाज करते हैं क्योंकि आप पूरी तरह से जानते हैं कि किस प्रकार ऑब्जेक्ट को आपके प्रोग्राम में उपयोग किया जा रहा है तथा एक ऑब्जेक्ट को आवश्यकता पड़ने पर अन्य किसी ऑब्जेक्ट से बदला जा सकता है, जब तक कि कोई नया बिल्कुल उसी इंटरफेस को लागू करे।

Question-24: फंक्शन क्या है एवं कार्य (Function)
Ans फंक्शन सब-रूटीन का एक प्रकार है जो कोई आर्ग्यूमेन्ट ले सकता है तथा फंक्शन को असाइन किया गया मान इस तरह लौटाता है जैसे यह वेरियेवल हो। आप अपना फंक्शन कोड के माध्यम से स्वयं बना सकते हैं या फिर विजुअल बेसिक के पूर्व निर्मित फंक्शन का भी प्रयोग कर सकते हैं।

Question-25: इनहेरिटेन्स क्या है एवं कार्य (Inheritance)
Ans- इनहेरिटेन्स एक ऑब्जेक्ट द्वारा दूसरे ऑब्जेक्ट के मेथड तथा प्रॉपर्टी को स्वतः अपनाने की योग्यता है। वह ऑब्जेक्ट जो अपना मेथड तथा प्रॉपर्टी दूसरे ऑब्जेक्ट को देता है, पेरेण्ट ऑब्जेक्ट कहा जाता है तथा वह ऑब्जेक्ट जो उसे ग्रहण करता है चाइल्ड ऑब्जेक्ट कहलाता है। इसलिए आप बी.बी. डॉट नेट में इस प्रकार का स्टेटमेन्ट अवश्य पायेंगे।

Public Class Form1
Inherits System.Windows.Forms.Form

उपरोक्त स्टेटमेन्ट्स में Windows. Forms.form पेरेण्ट ऑब्जेक्ट है जिसमें मेथड तथा प्रॉपर्टी का एक बड़ा सेट उपलब्ध है, जिसे माइक्रोसॉफ्ट द्वारा पहले से ही प्रोग्राम किया हुआ है। Form1 चाइल्ड ऑब्जेक्ट है तथा इसे पेरेण्ट ऑब्जेक्ट के लिए किये गये प्रोग्रामिंग का पूरा लाभ प्राप्त है। वी. बी. डॉट नेट में जोड़ा जाने वाला मुख्य ऑब्जेक्ट ओरिएन्टेड प्रोग्रामिंग फीचर इनहेरिटेन्स ही है। वी.बी. 6 में ऑब्जेक्ट ओरिएण्टेड प्रोग्रामिंग के कई फीचर यथा एनकैप्स्यूलेशन तथा पॉलिमॉर्फिज्म उपलब्ध थे, परन्तु इसमें इनहेरिटेन्स उपलब्ध नहीं था।

Question-26: इवेण्ट प्रॉसीजर क्या है एवं कार्य (Event Procedure)
Ans इवेण्ट प्रॉसीजर कोड का ब्लॉक है जिसे तब कॉल किया जाता है, जब विजुअल बेसिक प्रोग्राम में किसी ऑब्जेक्ट को मनिप्यूलेट किया जाता है। मनिप्यूलेशन जी. यू. आई. के माध्यम से प्रोग्राम के उपयोगकर्ता द्वारा किया जा सकता है। या प्रोग्राम द्वारा हो सकता है या फिर किसी अन्य प्रोसेस यथा समय अंतराल के समाप्ति होने पर भी हो सकता है। उदाहरण के लिए अधिकतर फॉर्म ऑब्जेक्ट का एक क्लिक इवेण्ट होता है। Form1 नामक फॉर्म का इवेण्ट प्रोसीजर Form1_Click( ) के नाम से पहचाना जाता है।

Question-27: की-वर्ड क्या है एवं कार्य (Keyword)
Ans- की-वर्ड वे शब्द तथा संकेत हैं जो विजुअल बेसिक प्रोग्रामिंग भाषा के बुनियादी तथा आरक्षित अवयव हैं। परिणामस्वरूप आप उन्हें अपने प्रोग्राम में निम्नलिखित रूप में उपयोग नहीं कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, 

Dim Dim As String
or
Dim String As String
अमान्य हैं। क्योंकि Dim तथा String दोनों ही विजुअल बेसिक के कीवर्ड हैं।

Question-28: मेथड क्या है एवं कार्य (Method)
Ans मेथड सॉफ्टवेयर फंक्शन को पहचानने का एक तरीका है, जो किसी विशेष ऑब्जेक्ट के लिए किसी कार्य या सेवा पूरा करता है। उदाहरण के लिए Form1 नामक फॉर्म के लिए Hide मेथड प्रोग्राम डिस्प्ले से फॉर्म को हटाता है, परन्तु मेमोरी से इसे अनलोड (unload) नहीं करता है। इसके लिए Form1. Hide सही कोड होगा।

Question-29: मॉडयूल क्या है एवं कार्य (Module)
Ans- मॉड्यूल एक फाइल की तरह है जिसमें कोड या सूचना होता है जो आप अपने प्रोजेक्ट में जोड़ते हैं। आमतौर पर मॉड्यूल में वह प्रोग्राम कोड होता है जिसे आप लिखते हैं। वी.बी. 6 में मॉड्यूल का विस्तारक .bas होता है तथा तीन प्रकार के मॉड्यूल फॉर्म, स्टैण्डर्ड तथा क्लास होते हैं।

वी. बी. डॉट नेट में सामान्य मॉडयूल का विस्तारक .vb होता है जबकि डाटासेट मॉड्यूल का विस्तारक xsd, एक्स. एम. एम. मॉडयूल के लिए विस्तारक .xml मॉड्यूल, वेब पेज का विस्तारक .htm, टेक्स्ट फाइल के लिए .txt, एक्स. एस. एल. टी फाइल के लिए .xslt, स्टाइल शीट के लिए विस्तार .CSS, क्रिस्टल रिपोर्ट के लिए विस्तारक .rpt होता है।

Question-30: नेमस्पेस क्या है एवं कार्य (Namespace)
Ans- नेमस्पेस केवल एक नाम है जिसका उपयोग ऑब्जेक्ट के माइक्रोसॉफ्ट लायब्रेरी को रेफर करने में होता है। उदाहरण के लिए System. Data तथा System. XML डिफॉल्ट वी.बी. डॉट नेट विण्डोज़ एप्लीकेशन सामान्य रेफ्रेन्स (typical references) होते हैं तथा उनमें विद्यमान ऑब्जेकट के संकलन को System.Data नेमस्पेस तथा System.XML नेमस्पेस कहा जाता है।

जब आप एक्स. एम. एल. का उपयोग कर रहे हैं तो नेमस्पेस एलिमेन्ट टाइप तथा एट्रिब्यूट नाम का संकलन होता है। ये एलिमेण्ट टाइप तथा एट्रिब्यूट के नाम एक्स. एम. एल. नेमस्पेस के नाम द्वारा अनोखे तरीके से पहचाना जाता है जो उस का अंश होता है। एक्स. एम. एल. में नेमस्पेस को यूनिफॉर्म रिसोर्स आइडेन्टिफायर (uniform resource identifier) का नाम यथा वेब साइट पता दिया जाता है। दोनों इसलिए कि नेमस्पेस साइट से संबद्ध हो सकता है तथा क्योंकि यू. आर. आई एक अनोखा नाम होता है।

यह भी देखें :  विण्डोज फॉर्मस विजुअल स्टूडियो (पार्ट-1) | Windows form in Visual Studio - Best Info

जब इस तरह से उपयोग किया जाता है तब यू. आर. आई. नाम के अतिरिक्त किसी भी प्रकार से उपयोग नहीं किया जाता है तथा उस पते पर कोई डॉक्यूमेन्ट या एक्स. एम. एल. स्केमा नहीं होता है।

Question-31: ऑब्जेक्ट क्या है एवं कार्य (Object)
Ans ऑब्जेक्ट एक सॉफ्टवेयर कम्पोनेन्ट है, जिसके अपने प्रॉपर्टी तथा मेथड होते हैं। इसे यूजर इंटरफेस अवयव के रूप में रेफर किया जाता है जो आप टूलबॉक्स कंट्रोल के लिए वी.बी. फॉर्म पर बनाते हैं।

Question-32: ऑब्जेक्ट लायबेरी क्या है एवं कार्य (Object Library)
Ans ऑब्जेक्ट लायब्रेरी एक फाइल होता है। इसका विस्तारक .olb होता है। यह ऑटोमेशन कंट्रोलर को उपलब्ध ऑब्जेक्ट के बारे में सूचना देता है। विजुअल बेसिक ऑब्जेक्ट ब्राउजर को FT की सहायता से खोलकर आप सभी उपलब्ध ऑब्जेक्ट लायब्रेरी को देख सकते हैं।

Question-33: ओ. एल. ई. क्या है एवं कार्य (OLE)
Ans- ओ. एल. ई. का पूर्ण रूप ऑब्जेक्ट लिंकिंग एण्ड एम्बेडिंग (Object Linking and Embedding) होता है। इस तकनीक को सबसे पहले विण्डोज 3.1 में परिचित करवाया गया था। ओ. एल. ई. कम्पाउण्ड डॉक्यूमेन्ट के निर्माण को सम्भव बनाता है। कम्पाउण्ड डॉक्यूमेन्ट से तात्पर्य वैसे डॉक्यूमेन्ट से है जिसमें एक से अधिक एप्लीकेशन के सामग्री बनाये जा सकते हैं।

उदाहरण के लिए एक्सेल के मूल स्प्रेडशीट तथा पावरप्वाइण्ट के प्रेजेंटेशन के साथ वर्ड डॉक्यूमेंन्ट का बनाना। डाटा को लिंक या इम्बेड प्रक्रिया के द्वारा प्रदान किया जा सकता है। इसी दोनों प्रक्रिया पर इसका नाम भी है। ओ. एल. ई. अब सर्वर तथा नेटवर्क पर भी उपलब्ध है तथा पहले से ज्यादा उपयोगी है।

Question-34: ओ. ओ. पी. क्या है एवं कार्य (OOP)
Ans- ओ. ओ. पी. का पूर्ण रूप ऑब्जेक्ट ओरिएन्टेड प्रोग्रामिंग (Object Oriented Programming) होता है। यह एक प्रोग्रामिंग आर्किटेक्चर है जो प्रोग्राम के मूलभूत निर्माणकर्ता ब्लॉक के रूप में ऑब्जेक्ट के उपयोग पर बल देता है। यह निर्माणकारी ब्लॉक को बनाने की एक विधि प्रदान कर पूरा किया जाता है। इसलिए ये डाटा तथा फंक्शन दोनों ही को शामिल करते हैं जो इंटरफेस के माध्यम से एक्सेस किया जाता है।

डाटा तथा फंक्शन को वी.बी. डॉट नेट में प्रॉपर्टीज तथा मेथड कहा जाता है। ऊप की परिभाषा विवादास्पद रहा है क्योंकि कुछ ऊप विशेषज्ञ इस बात पर बल देते हैं कि सी++ तथा जावा ऑब्जेक्ट ओरिएण्टेड हैं तथा वी.बी.6 ऐसा नहीं था। उनका ऐसा मानना इसलिए है क्योंकि ऊप के फीचर में इनहेरिटेन्स, पॉलिमॉर्फिज्म तथा एनकैप्सूलेशन तीन स्तम्भ हैं तथा वीबी 6 में इनहेरिटेन्स नहीं था।

अन्य विशेषज्ञों का कहना है कि वी.बी.6 द्विआधारी रियूजेबल कोड ब्लॉक्स बनाने के लिए लाभकारी था और इसीलिए यह ऊप होने के लिए काफी है। लेकिन वी.बी. डॉट नेट के साथ ही यह विवाद समाप्त हो जाता है क्योंकि वी.बी. डॉट नेट संपूर्ण ऊप है और स्पष्ट रूप से इनहेरिटेन्स का उपयोग करता है।

Question-35: प्रॉपर्टी क्या है एवं कार्य (Property)
Ans प्रॉपर्टी किसी ऑब्जेक्ट का नाम वाला (ऐसा एट्रिब्यूट जिसका नाम हो यथा Name, Text) एक एट्रिब्यूट होता है। उदाहरण के लिए प्रत्येक टूल का एक Name प्रॉपर्टी होता है। प्रॉपर्टी को डिजायन टाइम तथा रन टाइम दोनों ही में सेट किया जा सकता है।

Question-36: स्कोप क्या है एवं कार्य (Scope)
Ans स्कोप प्रोग्राम का वह हिस्सा होता है, जहाँ वेरियेबल को पहचाना जा सकता है तथा स्टेटमेन्टस में उपयोग किया जा सकता है। उदाहरण के लिए यदि कोई वेरियेबल फॉर्म के डिक्लेअरेशनस सेक्शन में डिक्लेयर किया जाता है, तब वेरियेबल उस फॉर्म के किसी प्रोसीजर में उपयोग (यथा फॉर्म पर बटन के लिए क्लिक इवेण्ट) किया जा सकता है।

Question-37: एक्स. एम. एल. क्या है एवं कार्य (XML)
Ans एक्स. एम. एल. का पूर्ण रूप एक्स्टेंसिंबल मार्कअप भाषा (eXtensible Markup Language) है। इसकी सहायता से डिजायनर सूचना हेतु अपना कस्टमाइज किया गया मार्कअप टैग्स बनाते हैं। एप्लीकेशनों के मध्य अधिक लचीलापन (flexibility) तथा शुद्धता के साथ सूचना को परिभाषित करना, वैलिडेट करना, ट्रांसमीट करना तथा इंटरप्रेट करना यह संभव बनाता है। एक्स. एम. एल. स्पेसिफिकेशन को वर्ल्ड वाइड वेब कॉनसॉर्टियम (World Wide Web Consortium) या डब्ल्यू थ्री सी (W3C) द्वारा विकसित किया गया था। परन्तु एक्स. एम. एल. का उपयोग वेब के अतिरिक्त भी कई एप्लिकेशनों में होता है। वी.बी. डॉट नेट तथा सभी माइक्रोसॉफ्ट डॉट नेट प्रोद्यौगिकी व्यापक स्तर पर एक्स. एम. एल. का उपयोग होता है।

Question-38: पॉलिमॉर्फिज्म क्या है एवं कार्य (Polymorphism)
Ans पॉलिमॉर्फिज्म ऑब्जेक्ट ओरिएन्टेड प्रोग्रामिंग का एक महत्त्वपूर्ण स्तम्भ है। पॉलिमॉर्फिज्म का शाब्दिक अर्थ कई रूप वाला (many forms) होता है। दो अलग-अलग टाइप के अलग-अलग ऑब्जेक्ट द्वारा एक ही मेथड को लागू करने की क्षमता को पॉलिमॉफिज्म कहते हैं। उदाहरण के लिए आप GetLicense नामक सरकारी एजेन्सी के लिए एक प्रोग्राम लिख सकते हैं परन्तु लाइसेंस किसी भी वस्तु का हो सकता है। विजुअल बेसिक अलग-अलग वस्तु के लाइसेंस के लिए ऑब्जेक्ट्स को कॉल करने में उपयोग होने वाले पैरामीटर में फर्क होता है। वी.बी. 6 तथा वी.बी. डॉट नेट दोनों ही में पॉलिमॉर्फिज्म उपलब्ध है, परन्तु दोनों ही इसे करने के लिए अलग आर्किटेक्चर का उपयोग करते हैं।

Question-39: क्लाइण्ट एरिया क्या है एवं कार्य (Client Area)
Ans टूलबार, मेन्यूबार तथा स्टेटस बार को छोड़कर विण्डोज आधारित एप्लीकेशन का शेष हिस्सा क्लाइण्ट एरिया कहलाता है।

Question-40: क्लाइण्ट कॉर्डिनेट्स क्या है एवं कार्य (Client Coordinates)
Ans वह कोर्डिनेट्स जिसमें X तथा Y स्क्रीन पोजीशन एप्लीकेशन के ऊपरी बायें कोने के सापेक्ष में स्पष्ट किया जाता है। जो मूल (0,0) के रूप में जाना जाता है। दायें से बायें एप्लीकेशन में ऊपरी दायीं कोना मूल (0.0) होता है।

Rate this post
Suraj Kushwaha
Suraj Kushwahahttp://techshindi.com
हैलो दोस्तों, मेरा नाम सूरज कुशवाहा है मै यह ब्लॉग मुख्य रूप से हिंदी में पाठकों को विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर टेक्नोलॉजी पर आधारित दिलचस्प पाठ्य सामग्री प्रदान करने के लिए बनाया है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
spot_img
- Advertisement -

Latest Articles