Wednesday, May 29, 2024

डाटाबेस प्रोग्रामिंग विद एडू.नेट पार्ट-4 | Database Programming With ADO.NET – Best Info

डाटाबेस प्रोग्रामिंग विद एडू.नेटपार्ट-4 | डाटा बेस प्रोग्रामिंग क्या है? | एडीओ ADO.NET का परिचय | Database Programming With ADO.NET In Hindi

डाटाबेस प्रोग्रामिंग विद एडू.नेट परिचय (Introduction)ए.डी.यू. या एड् डॉट नेट लायब्रेरी का वह संकलन है जो आपको कई डाटाबेस प्रणालियों का इकट्ठा एक्सेस विजुअल स्टूडिया डॉट नेट में उपलब्ध कराता है। डाटाबेस प्रणालियों में आप किसी भी डाटाबेस प्रणाली यथा एस. क्यू.एल., अरिकल का उपयोग कर अपने एप्लिकेशन में डाटाबेस को जोड़ सकते हैं। इस अध्याय में हम आपके साथ एडू डॉट नेट की चर्चा करेंगे। एड् डॉट नेट असंयोजित डाटा आर्किटेक्चर (disconnected data architecture) पर आधारित है। संयोजित डाटा आर्किटेक्चर के बारे में भी इस अध्याय में आपको बताया गया है।

इस पार्ट-4 में हम जानेगे :- डाटासेट्स (Datasets), डाटा के साथ डाटासेट्स को पॉप्यूलेट करना (Populating DataSets With Data), डाटा एडाप्टर DataAdapter 

डाटासेट्स (Datasets)

डाटासेट्स वे ऑब्जेक्ट होते हैं जो डाटा टेबल को रखते हैं जहाँ आप अपने एप्लिकेशन में उस डाटा का उपयोग करने के लिए अस्थायी तौर पर स्टोर कर सकते हैं। यदि आपके एप्लिकेशन को डाटा के साथ कार्य करने की आवश्यकता पड़ती है तब आप डाटासेट में डाटा को लोड नहीं कर सकते हैं जो आपके एप्लिकेशन के साथ कार्य करने के लिए डाटा का स्थानीय इन-मेमोरी कैश उपलब्ध कराता है।

आप डाटासेट से डाटा के साथ तब भी कार्य कर सकते हैं जब आपका एप्लिकेशन आपके डाटाबेस के साथ जुड़ा नहीं होता है। डाटासेट डाटा से हुए बदलाव से संबंधित सूचना को भी मेनटेन करता है ताकि अपडेट्स का पता रह सके तथा एप्लिकेशन का डाटाबेस के साथ जुड़ने पर उन बदलावों के साथ डाटाबेस को अपडेट किया जा सके।

डाटासेट की संरचना रिलेशनल डाटाबेस की संरचना के समान होती है। यह टेबल, रो, कॉलम, कंस्ट्रेन्ट्स तथा रिलेशनशिपस के हायरैर्किकल ऑब्जेक्ट मॉडल को एक्स्पोज करता है। डाटासेट्स टाइप्ड (typed) अथवा अनटाइप्ड (untyped) हो सकते हैं। टाइप्ड डाटासेट्स .xsd फाइलों से अपने स्केम (टेबल तथा कॉलम संरचना) प्राप्त करते हैं तथा इनके लिए प्रोग्राम करना आसान होता है। आप अपने एप्लिकेशनों में टाइप्ड या अनटाइप्ड डाटासेट का उपयोग कर सकते हैं परन्तु विजुअल स्टूडियो में टाइप्ड डाटासेट्स के लिए कई टूल सपोर्ट है। तथा उनके साथ प्रोग्रामिंग करना आसान तथा कम त्रुटि देने वाला होता है।

टाइप्ड डाटासेट्स बनाने के लिए Data Source Configuration Wizard का उपयोग कर सकते हैं। इसे Project मेन्यू से Add New Item का चयन कर भी DataSet को जोड़ सकते हैं। अनटाइप्ड डाटासेट्स को बनाने के लिए Windows Forms डिजायनर या कम्पोनेण्ट डिजायनर खण्ड में टूलबॉक्स से DataSet को ड्रैग करें। डाटासेट्स बनाने के बाद डाटासेट डिजायनर में उन्हें संपादित किया जा सकता है। 
टाइपूड तथा अनटाइण्ड डाटासेट् को बनाने तथा इसके साथ कार्य करने के लिए System. Data नेमस्पेस का उपयोग होता है।

डाटासेट के ऑब्जेक्ट स्टैण्डर्ड प्रोग्रामिंग यथा प्रॉपर्टी तथा कलेक्शन के माध्यम से एक्सपोज होते हैं। उदाहरण के लिए-

1. DataSet क्लास में DataTableCollection (डाटा टेबलूस का संकलन) तथा DataRelation Collection (Data Relation ऑब्जेक्ट का संकलन) सम्मिलित होता है।

2. DataTable क्लास में DataRowCollection (टेबल से के संकलन) तथा Data Colurnn Collection (डाटा कॉलम का संकलन), ChildRelations तथा ParentRelations (डाटा रिलेशन्स का संकलन) शामिल होता है। 3. DataRow क्लास में RowState प्रॉपर्टी होता है जिसके मान ये दर्शाते हैं कि डाटाबेस से डाटा टेबल को लोड किए जाने के बाद से में बदलाव हुआ है अथवा नहीं तथा यह बदलाव कैसे हुआ है। RowState प्रॉपटी में Deleted, Modified, Added तथा Unchanged जैसे संभावित मान होते हैं।

डाटाबेस प्रोग्रामिंग विद एडू.नेट | एडीओ नेट क्या है? | हम डेटाबेस प्रोग्रामिंग का अध्ययन क्यों करते हैं? | Difference Between DAO RDO And ADO In Vb In Hindi

डाटाबेस प्रोग्रामिंग विद एडू.नेटपार्ट-4| डाटा बेस प्रोग्रामिंग क्या है? | एडीओ ADO.NETका परिचय| Database Programming With ADO.NET In Hindi
डाटाबेस प्रोग्रामिंग विद एडू.नेटपार्ट-4| डाटा बेस प्रोग्रामिंग क्या है? | एडीओ ADO.NETका परिचय| Database Programming With ADO.NET In Hindi

डाटा के साथ डाटासेट्स को पॉप्यूलेट करना (Populating DataSets With Data)

डाटासेट में बाई डिफॉल्ट कोई वास्तविक डाटा नहीं होता है। डाटा के साथ डाटासेट को भरने से तात्पर्य है प्रत्येक DataTable ऑब्जेक्ट में डाटा को लोड करना जो डाटासेट का निर्माण करता है। आप TableAdapter क्वेरी अथवा डाटा अडैप्टर को कमाण्ड्स (यथा SqiDataAdapter) को एक्जिक्यूट का डाटा टेबल को भरते हैं। जब आप डाटा के साथ डाटासेट को करते हैं तब कई इवेण्ट जागृत होते हैं तथा बाधाएँ (constraints) रुकती है।

जब आप अपने विण्डोज एप्लिकेशन में फॉर्म पर Data Sources Window में आइटमों को ड्रैग करते हैं तब फॉर्म के लोड डवेण्ट हेण्डलर में डाटासेट को भरने वाला कोड स्वतः ही जुड़ जाता है। TableAdapter के साथ डाटासेट को भरने का सामान्यतः यह कोड होता है-

Me. CustomersTableAdapter. Fill (Me.NorthwindDataSet.Customers)

आप डाटासेट को विभिन्न विधियों से पॉप्यूलेट कर सकते हैं-

1. जब आप डाटा विजार्ड जैसे डिजायन टाइम टूल का उपयोग कर डाटासेट का निर्माण करते हैं तो TableAdapter के Fill मेथड को कॉल करते हैं। TableAdapters डिफॉल्ट Fill मेथड के साथ बनते हैं लेकिन आप इसका नाम बदल भी सकते हैं।

2. DataAdapter के Fill मेथड को कॉल करके भी डाटासेट को पॉप्यूलेट कर सकते हैं।

3. आप DataRow ऑब्जेक्ट बनाकर तथा उन्हें टेबल के DataRowCollection संकलन से जोड़कर भी डाटासेट के टेबल को मैनुअल ढंग से पॉप्यूलेट कर सकते हैं। आप लेकिन इसे रन टाइम में ही कर सकते हैं। आप DataRowCollection संकलन को डिजायन समय में सेट नहीं कर सकते हैं।

यह भी देखें :  डॉट नेट क्या है एवं उपयोग | Best info .NET In Hindi

4. आप डाटासेट में एक्स.एम.एल. डॉक्यूमेण्ट या स्ट्रीम को पढ़ सकते हैं।

5. एक डाटासेट के विषय-वस्तु को दूसरे के साथ मिला/कॉपी कर सकते हैं। यह स्थिति तब उपयोगी हो सकती है जब आपके एप्लिकेशन में विभिन्न स्रोतों (यथा विभिन्न एक्स.एम.एल. वेब सेवाएँ) से डाटासेट्स प्राप्त होते हैं। परन्तु उन्हें एक सिंगल डाटासेट में मिलाने (consolidation) की आवश्यकता पड़ती है। 6. एक DataTable के विषय-वस्तु को दूसरे से कॉपी करके भी डाटासेट को पॉप्यूलेट कर सकते हैं।

डाटा एडाप्टर (DataAdapter)

DataAdapter का उपयोग डाटा सोर्स से डाटा को प्राप्त करने तथा डाटासेट के अंदर टेबलस को पॉप्यूलेट (populate) करने में होता है। DataAdapter की डाटा सेट में किये गये बदलाव को डाटा सोर्स में सुरक्षित किया जाता है। DataAdapter डॉट नेट फ्रेमवर्क डाटा प्रोवाइडर के Connection ऑब्जेक्ट का उपयोग डाटा सोर्स से कनेक्ट करने में होता है। तथा यह डाटा सोर्स से डाटा प्राप्त करने तथा डाटा सोर्स में बदलाव को अपडेट करने के लिए कमाण्ड (command) ऑब्जेक्ट का उपयोग करता है।

डॉट नेट फ्रेमवर्क में सम्मिलित प्रत्येक डॉट नेट फ्रेमवर्क डाटा प्रोवाइडर का एक DataAdapter ऑब्जेक्ट होता है। ओ.एल. ई.डी.बी. (OLE DB) के डॉट नेट फ्रेमवर्क डाटा प्रोवाइडर में एक OleDbDataAdapter ऑब्जेक्ट शामिल होता है। एस. क्यू.एल. सर्वर के लिए डॉट नेट फ्रेमवर्क डाटा प्रोवाइडर SqlDataAdapter ऑब्जेक्ट शामिल करता है। ओ.डी.बी.सी. के लिए डॉट नेट फ्रेमवर्क डाटा प्रोवाइडर में OdbcDataAdapter शामिल होता है तथा ऑरकल के लिए डॉट नेट फ्रेमवर्क डाटा प्रोवाइडर में Oracle DataAdapter ऑब्जेक्ट होता है।

1- OleDbData Adapter क्लास – Ole DhDataAdapter क्लास डाटा कमाण्ड्स के एक सेट तथा डाटाबेस कनेक्शन को व्यक्त करता है जिसका उपयोग डाटासेट को भरने तथा डाटा सोर्स को अपडेट करने में होता है। Ole DhDataAdapter डाय सेट तथा डाटा स्रोत के मध्य डाटा को प्राप्त करने तथा सुरक्षित करने हेतु एक संतू का कार्य करता है। OleDbDataAdapter Fill का उपयोग कर यह सेतु उपलब्ध करता है जो DataSet में डाटा स्रोत से डाटा को लोड करता है तथा Update का उपयोग कर डाटासेट में हुए बदलाव को डाटा सोर्स में वापस अपडेट करता है।

जब Ole DhDataAdapter किसी DataSet को भरता है तब यह उपयुक्त टेबल तथा कॉलम का निर्माण लौटाए गये डाटा के लिए करेगा यदि वे पहले से बने हुए नहीं है। किन्तु प्राइमरी की सूचना इम्लिसिटलि बने स्केमा (implicitly created schema) में शामिल नही होते जब तक की MissingSchemaAction प्रॉपर्टी को AddWithKey सेट नही किया गया हो , आप OleDbDataAdapter का उपयोग DataSet का स्केमा प्राइमरी की सूचना सहित बनाने में FillSchema का उपयोग कर इसे डाटा के साथ भरने से पहले कर सकते हैं।

यहाँ ध्यान दें कि MSDataShape प्रोवाइडर सहित कई ओ.एल.ई.डी.बी. प्रोवाइडर्स आधार टेबल अथवा प्राइमरी की सूचना रिटर्न नहीं करते हैं। अत: OleDbDataAdapter किसी भी बनाए गए DataTable पर PrimaryKey को सटिक रूप से सेट नहीं कर सकता है। उन परिस्थितियों में DataSet में टेबल के लिए आपको एक्स्प्लीसिटली प्राइमरी की स्पष्ट करना चाहिए।

OleDbDataAdapter में SelectCommand, InsertCommand, Delete Command, UpdateCommand तथा TableMappings प्रॉपर्टी को शामिल कर डाटा के लोडिंग तथा अपडेटिंग को सहज बनाता है। जब आप OleDbDataAdapter का एक इनस्टैन्स बनाते हैं तब प्रॉपर्टी उनके आरम्भिक मान को सेट करता है।

निम्नलिखित कोड OleDbCommand, OleDbDataAdapter तथा OleDbConnection का उपयोग एक्सेस डाटा सोर्स से रिकार्ड का चयन करने के लिए तथा चयनित पंक्तियों के साथ DataSet को पॉप्यूलेट करने के लिए करता है। फिर भरा हुआ (filled) DataSet वापस होता है। इस कार्य को पूरा करने के लिए मेथड को इनिशिअलाइजड डाटासेट, कनेक्शन स्ट्रिंग तथा क्वेरी स्ट्रिंग पास कराया जाता है जो एक SQL SELECT स्टेटमेण्ट है।

Public Function CreateDataAdapter(ByVal SelectCommand As_
String, ByVal connection As OleDbConnection) As OleDbDataAdapter
Dim adapter As OleDbDataAdapter = New OleDbDataAdapter(selectCommand, connection)
adapter.MissingSchemaAction = MissingSchemaAction.AddWithKey
‘ Create the commands [कमाण्ड्स का निर्माण करता है।]
adapter.InsertCommand = New OleDbCommand_
“INSERT INTO Customers (CustomerID, Company Name)” & “VALUES (?, ?)”)
adapter.UpdateCommand = New OleDbCommand (_
“UPDATE Customers SET CustomerID = ?, CompanyName =?”_
& “WHERE CustomerID = ?”)
adapter.DeleteCommand = New OleDbCommand(_
“DELETE FROM Customers WHERE CustomerID = ?”)
‘ Create the parameters (पैरामीटर का निर्माण करता है)
adapter.InsertCommand.Parameters.Add(“@CustomerID”, OleDbType.Char, 5, “CustomerID”)
adapter.InsertCommand.Parameters.Add(“@CompanyName”,
adapter.UpdateCommand.Parameters.Add(“@CustomerID”,
adapter.UpdateCommand.Parameters.Add(“@CompanyName”,_
oldDbType.VarChar, 40, “Company Name”)
adapter.UpdateCommand.Parameters.Add(“@oldCustomerID”,
OleDbType. VarChar, 40, “CompanyName”)
OleDbType. Char, 5, “CustomerID”)
OldDbType.Char, 5, “CustomerID”).SourceVersion = DataRowVersion.Original)
adapter.Delete Command.Parameters.Add(“@CustomerID”,
OldDbType.Char, 5, “CustomerID”).Source Version = DataRowVersion.Original
Return adapter 

End Function

2- SqlDataAdapter क्लास – SqiDataAdapter क्लास डाटा कमाण्ड्स तथा डाटाबेस कनेक्शन के सेट को व्यक्त करता है जिसका उपयोग डाटासेट को भरने तथा एस. क्यू. एल. सर्वर डाटाबेस अपडेट करने में होता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया जा सकता है।

SqiDataAdapter डाटा को प्राप्त करने तथा सुरक्षित करने में DataSet तथा एस. क्यू. एल. सर्वर के बीच एक सेतु का कार्य करता है। SqiDataAdapter यह सेतु Fill को मैप (map) कर उपलब्ध कराता है जो DataSet में डाटा का बदलाव कर डाटा सोर्स के डाटा के साथ मिलाता है तथा Update डाटा सोर्स के डाटा में बदलाव कर डाटासेट के डाटा के साथ इसे मिलान करता है। इसके लिए डाटा सोर्स के बदले में उपयुक्त Transact-SQL स्टेटमेण्ट्स का उपयोग होता है।

जब SqDataAdapter डाटासेट को भरता है तब यह रिर्टन्ड डाटा के लिए आवश्यक टेबल तथा कॉलम का निर्माण करता है यदि ये पहले से बने नहीं होते हैं। किन्तु प्राइमरी की सूचना तब तब इम्प्लीसिटली बने स्केमा में शामिल नहीं होता जब तक कि Missing Schema Action प्रॉपर्टी AddWithKey सेट न हो। आप SqiDataAdapter से प्राइमरी की सूचना सहित DataSet का स्केमा बनवा सकते हैं परन्तु यह FillSchema का उपयोग कर उस स्केमा को डाटा के साथ फील (fill) करने से पहले होता है।

SqiDataAdapter SqlConnection तथा SqlCommand के मिलकर उपयोग होता है जो एस.क्यू.एल. सर्वर डाटाबेस से जुड़ने के समय इसकी परफॉरमेन्स को बढ़ाता है।

SqlDataAdapter SelectedCommand, InsertCommand, DeleteCommand, UpdateCommand तथा TableMappings प्रॉपर्टी सम्मिलित होते हैं जो डाटा के लोडिंग तथा अपडेटिंग को आसान बनाता है। SqiDataAdapter के इन्स्टैनस बनने पर read/write प्रॉपर्टी अपने प्रारम्भिक मानों के साथ सेट हो जाता है।

यह भी देखें :  ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग भाषा वी. बी. डॉट नेट पार्ट-3 | Object Oriented Programming – Best Info

निम्नलिखित उदाहरण SqlCommand, SqlDataAdapter तथा SqlConnection का उपयोग डाटाबेस से रिकॉर्ड का चयन करने तथा डाटासेट को चयनित पंक्तियों के साथ पॉप्यूलेट करने में होता है। भरा हुआ (filled) डाटासेट उसके बाद वापस होता है। इसको पूरा करने के लिए मेथड को एक इनिशियअलाइज् डाटासेट, एक कनेक्शन स्ट्रिंग तथा एक क्वेरी स्ट्रिंग पास किया जाता है जो एक Transact-SQL SELECT स्टेटमेण्ट होता है-

Public Function SelectRows(ByVal dataSet As_
DataSet, ByVal connectionString As String_
ByVal queryString As String) As DataSet
Using connection As New SqlConnection(connectionString)
Dim adapter As New SqlDataAdapter()
adapter.SelectCommand = New SqlCommand (queryString.connection)
adapter.Fill(dataSet)
Return dateSet
End Using
End Function

3 OdbcDataAdapter क्लास – OdbcDataAdapter क्लास डाटा कमाण्ड्स, डाटा सोर्स कनेक्शन के एक सेट को व्यक्त करता है जिसका उपयोग डाटासेट को भरने तथा डाटा सोर्स को अपडेट करने में होता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया जा सकता है।

OdbcDataAdapter डाटासेट तथा डाटा सोर्स के मध्य डाटा को प्राप्त करने तथा सुरक्षित करने में एक सेतु का कार्य करता है। OdbcDataAdapter इसके लिए Fill तथा Update का उपयोग करता है। Fill का उपयोग सोर्स से डाटा को डाटासेट में लोड करने के लिए तथा Update का उपयोग डाटासेट से हुए बदलाव को डाटा सोर्स में वापस सुरक्षित करने के लिए होता है।

OdbcDataAdapter क्लास डाटासेट तथा डाटासोर्स के मध्य डाटा को प्राप्त करने तथा उसे सुरक्षित करने के लिए एक सेतु का कार्य करता है। OdbcDataAdapter इसके लिए Fill तथा Update मेथड उपलब्ध कराता है। Fill डाटा सोर्स से डाटा को डाटा सेट में लोड करने का कार्य करता है तथा Update डाटा सेट में हुए बदलाव को डाटा सोर्स में सुरक्षित करता है।

जब Odbe DataAdapter डाटासेट को भरता है तब यह रिर्टन्ड डाटा के लिए टेबल तथा कॉलम का निर्माण करता है यदि वे पहले से नहीं बने होते हैं किन्तु प्राइमरी की सूचना तब तक इम्प्लीसिटली बने स्केमा से जोड़ा नहीं जाता जब तक कि Missing SchemaAction प्रॉपर्टी AddWithKey सेट न हो। आप odbcDataAdapter से प्राइमरी की सूचना सहित DataSet का स्केमा बनवा सकते हैं परन्तु यह FillSchema का उपयोग कर उस स्केमा को डाटा के साथ फील (fill) करने से स्केमा को डाटा के साथ फील (fill) करने से पहले होता है।

नोट: जब आप उस डाटा सोर्स में Fill मेथड को कॉल करते हैं जिसमें प्राइमरी की कॉलम न हो तब Odbe DataAdapter प्राइमरी की में अनोखा कनस्ट्रेण्ट कॉलम (unique constraint column) को प्रोमोट (promote) करने का प्रमाण करता है। इस प्रक्रिया में OdbcDataAdapter यूनिक कंस्ट्रेण्ट को नॉट नलेबल (not nullable) की तरह चिन्हित करता है। यह आचरण तब तक कार्य करता है जब तक कि यूनिक कंस्ट्रेण्ट कॉलम में नल (nuli) मान न आ जाय। यदि कोई नल वैल्यू होता है Fill मेथड कंस्ट्रेण्ट अवहेलना (constraint violation) में असफल हो जाता है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए आप यूनिक कंस्ट्रेण्ट कॉलम में नल मानों की अनुमति दें।

Odbc DataAdapter SelectCommand, Insert Command, DeleteCommand, UpdateCommand a TableMappings जैसे प्रॉपर्टी शामिल होते हैं जो डाटा को लोड करना तथा अपडेट करना आसान बनाता है। निम्नलिखित कोड OdbeCommand, OdbcDataAdapter तथा OdbcConnection का उपयोग कर रिकॉर्ड का चयन करता है तथा चयनित पंक्तियों के साथ डाटासेट को पॉप्यूलेट (populate) करता है-

Public Function GetDataSetFromAdapter(
ByVal dataset As DataSet, ByVal connectionString As String,__
ByVal queryString As String) As DataSet
Using connection As New OdbcConnection(connectionString)
Dim adapter As New OdbcDataAdapter (query String, Connection)
Try
connection.Open ()
adapter.Fill(dataSet)
Catch ex As Exception
Console. WriteLine (ex. Message)
End Try
End Using
Return dataSet
End Function

नोट : स्थानीय ओ.डी.बी.सी. ड्राइवर की सीमाओं के बजाय जब आप FillSchema को कॉल करते हैं तब हमेशा एक ही DataTable लौटाता है। यह तब भी सत्य होता है जब आप SQL बैच स्टेटमेण्ट एक्जिक्यूट करते हैं जिसमें एक से अधिक DataTable ऑब्जेक्ट आपेक्षित होता है।

4- OracleDataAdapter क्लास – OracleDataAdapter क्लास डाटा कमाण्ड्स तथा डाटाबेस कनेक्शन के एक सेट को व्यक्त करता है जिसका उपयोग डाटासेट को फील करने तथा डाटाबेस को अपडेट करने में होता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया जा सकता है। OracleDataAdapter डाटासेट तथा डाटाबेस के मध्य डाटा को प्राप्त करने तथा सुरक्षित करने हेतु एक सेतु का कार्य करता है।

OracleDataAdapter इस कार्य के लिए दो मेथड Fill तथा Update उपलब्ध कराता है। Fill मेथड का उपयोग डाटाबेस से डाटा को डाटासेट में लोड करता है तथा Update डाटयसेट में हुए बदलाव को वापस डाटाबेस में सुरक्षित करता है।

OracleDataAdapter जब डाटासेट को फील करता है तब यह रिटर्न्ड डाटा के लिए आवश्यक टेबलस तथा कॉलम्स का निर्माण करता है यदि वे पहले से बने नहीं होते हैं। किन्तु यहाँ भी इम्प्लीसिटली बने स्केमा में तब तक प्राइमरी की सूचना सम्मिलित नहीं होता है जब तक कि MissingSchemaAction प्रॉपर्टी AddWithKey सेट न हो। आप OracleDataAdapter का उपयोग प्राइमरी की सूचना के साथ डाटासेट स्केमा को बनाने में FillSchema का उपयोग कर डाटा को फील (fill) करने से पहले कर सकते हैं। 

आपने इस पूरे पार्ट 1 से 4 तक में क्या सीखा (What Did You Learn Today)

  • डाटाबेस का प्रबंधन आज के कम्प्यूटर की सर्वोत्तम उपयोगिता है तथा कम्प्यूटर इसके लिए सर्वप्रथम आवश्यकता है। किसान, दुकानदार कम्पनी, एअरलाइन्स सब के सब अपने डाटा को रखने के लिए कम्प्यूटर का उपयोग करते हैं। सूचना मिलीसेकण्ड (milisecoods) में चाहिए
  • डाटाबेस प्रबंधन का इस अनुसार मूल कार्य अव्यवस्थित डाटा का प्रबंधन कर उन्हें सूचता में परिवर्तित करता है। डाटाबेस कुछ मेगाबाइट से लेकर सैकड़ों टेराबाइट तक हो सकता है। डाटाबेस छोटा हो या बड़ा हो उसके डिजायन करने की तकनीक तथा सिद्धांत एक समान होते हैं। इसमें तालिका, फील्ड रिकॉर्ड इत्यादि होते हैं।
  • तालिका या टेबल डाय का एक आयाताकार ऐरे (ectangular array) होता है। तालिका का प्रत्येक कॉलम फील्ड (field) कहा जाता है। एक फील्ड में एक ही प्रकार के डाटा होते हैं। तालिका का प्रत्येक पंक्ति एक रिकॉर्ड (record) होता है। एक रिकॉर्ड में दूसरे पंक्ति की तरह ही समान सूचना संगृहीत होते हैं।
  • डायबेस या रिलेशनल डाटाबेस एक या एक से अधिक तालिकाओं का संकलन होता है। डाटाबेस या रिलेशनल डाटाबेस जिस सॉफ्टवेयर के द्वारा बनाये जाते हैं, वह सॉफ्टवेयर डाटाबेस प्रबंधन सॉफ्टवेयर कहा जाता है।
  • आज बाजार में कई डाटाबेस प्रबंधन सॉफ्टवेयर उपलब्ध हैं। उनमें एक्सेस, ओरेकल, एस. क्यू एल. सर्वर कुछ प्रचलित नाम हैं।
  • वी.बी. डॉट इन सॉफ्टवेयर में बनाये गये डाटाबेस का प्रबंधन तथा विश्लेषण करने के लिए फीचर उपलब्ध कराता है। वी.बी. डॉट नेट में एक शक्तिशाली डाटा व्यूअर है, जिसका उपयोग डाटाबेस के सभी भागों को ब्राउज़ करने में किया जा सकता है।
  • प्रोजेक्ट में उपयोग किया गया डाटाबेस प्रोजेक्ट के bin फोल्डर में उपलब्ध होता है।
  • एक अच्छे तालिका की खास बात यह होती है कि उसमें एक ऐसा फील्ड या फील्ड का एक ऐसा सेट होता है जो उस तालिका के प्रत्येक रिकॉर्ड को एक अनोखा पहचान उपलब्ध कराता है। इस फील्ड या फील्ड के सेट को प्राइमरी की कहा जाता है।
  • फॉरेन की की सहायता से वी.बी. डॉट नेट एक अर्थपूर्ण ढंग से रिलेशनल डाटाबेस में दो तालिकाओं को लिंक करता है।
  • एडू (ADO) एक माइक्रोसॉफ्ट प्रौद्योगिकी है जिसका पूर्ण रूप एक्टिवएक्स डाटा ऑब्जेक्ट्स (ActiveX Data objects) होता है। इसको माइक्रोसॉफ्ट ने अक्टूबर 1996 में परिचित किया था। यह कॉम्पोनेण्ट ऑब्जेक्ट मॉडल (Component Object Model) का एक सेट है जो किसी डाटाबेस से डाटा को एक्सेस करने हेतु प्रोग्रामिंग इंटरफेस उपलब्ध कराता है।
  • एडू को रिमोट डाटा ऑब्जेक्ट्स (Remote Data Objects) तथा डाटा एक्सेस ऑब्जेक्ट (Data Access Object) का उत्तरवर्ती (successor) समझा जाता है।
  • एडू डॉट नेट लायब्रेरी का एक संकलन है जिसका उपयोग माइक्रोसॉफ्ट एस. क्यू. एल. सर्वर, माइक्रोसॉफ्ट सर्वर, ऑरेकल, एस. क्यू. एल., माइक्रोसॉफ्ट एक्सेल इत्यादि जैसे विभिन्न संसाधनों का उपयोग करते हुए शक्तिशाली डाटाबेस के निर्माण में होता है।
  • एडू डॉट नेट एप्लिकेशन में डाटाबेस के फीचरों को उपयोग करने के अलावा आप एक्स.एम.एल. के लाभ भी पूरी तरह से प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि एक्स.एम.एल. DataSet क्लास के द्वारा पूरी तरह से सपोर्ट किया जाता है।
  • एडू डॉट नेट में असंयोजित डाटा आर्किटेक्चर (disconnected data architecture) का प्रयोग होता है।
  • डाटासेट डाटा एक्सेस करने का सबसे सामान्य विधि है क्योंकि यह असंयोजित डाटा आर्किटेक्चर को लागू करता है।
  • एडू डॉट नेट में एक्स. एम. एल. डाटा स्थानांतरण का एक बुनियादी फॉरमेट है। डाटा डाटाबेस से डाटासेट में स्थानांतरित होता है तथा डाटासेट से एक्स. एम. एल. का प्रयोग कर अन्य कम्पोनेन्ट स्थानांतरित होता है।
  • डाटाबेस पर सभी क्रियाएँ डाटा कमाण्ड के माध्यम से होता है। डाटा कमाण्ड एक एस. क्यू. एल. स्टेटमेण्ट या फिर एक संग्रहीत प्रोसीजर हो सकता है। डाटा कमाण्ड को एक्जिक्यूट कर आप डाटाबेस से डाटा को प्राप्त कर सकते हैं, डाटा प्रविष्ट कर सकते हैं, डाटा मिटा सकते हैं या उसमें संशोधन कर सकते हैं।
  • एस. क्यू. एल. सर्वर अथवा माइक्रोसॉफ्ट एस. क्यू. एल. सर्वर का उपयोग मुख्य रूप से कम्प्यूटर डाटाबेस को बनाने तथा उन्हें मेनटेन करने में होता है। इसकी सहायता से आप यूजर ग्राफिकल यूजर इंटरफेस का निर्माण कर सकते हैं। इसीलिए इसे बैक-एण्ड सॉफ्टवेयर कहा जाता है तथा कोई भी एप्लिकेशन बैक-एण्ड और फ्रण्ट-एण्ड का सम्मिश्रण होता है।
  • सर्वर एक्स्प्लोरर विजुअल स्टूडियो डॉट नेट का ऐसा टूल है जिसकी सहायता से आप अपने एप्लिकेशन को विभिन्न प्रकार के डाटा स्रोतों के साथ जोड़ सकते हैं।
  • सर्वर एक्स्प्लोरर को स्क्रीन पर प्रकट करने के लिए View मेन्यू को क्लिक करें तथा Server Explorer का चयन करे। या फिर CTRL+ALT+S को की-बोर्ड से दबाएँ।
  • DataTable ऑब्जेक्ट किसी सारणी के विषय-वस्तु को आयताकार ऐरे में रखता है। डाटा टेबल द्वि-विमीय की तरह होता है जिसमें पंक्तियाँ तथा कॉलम होते हैं।
  • आपने अब तक जाना कि डाटाबेस से सूचना लेकर हम उन्हें टेक्स्ट बॉक्स तथा लिस्ट बॉक्स में डिस्पले कैसे करते हैं। वी. बी. डॉट नेट में इस कार्य के लिए एक विशेष कण्ट्रोल है जिसे हम डाटाग्रिडव्यू (DataGridView) कन्ट्रोल के नाम से जानते हैं।
  • डायग्रिडव्यू कन्ट्रोल टेबल फॉरमेट में डाटा को डिस्प्ले करने के लिए उपयोग में लाया जाता है। डाटाग्रिडव्यू कन्ट्रोल
  • डाटयग्रीडव्यू का डिफॉल्ट अपिअरेन्स सामान्य (plain) होता है। आप इसे अपने अनुसार एक विशेष स्टाइल दे सकते हैं। इसके लिए कई प्रॉपर्टी होते जिन्हें आपको सेट करना होता है।
  • BorderStyle डाटाग्रीडव्यू का बॉर्डर स्टाइल सेट करता है।
  • CellBorderStyle डायग्रीडव्यू के सेल बॉर्डर स्टाइल को सेट करता है। इसमें आप Custom को छोड़कर कोई भी स्टाइल चुन सकते हैं।
  • कनेक्शन ऑब्जेक्ट लिंक को सोर्स डाटाबेस के साथ व्यवस्थित करता है। इसमें सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला प्रोपर्टी ConectionString है जिसमें डाटाबेस को ढूंढने के लिए आवश्यक सूचना होती है। इसके महत्वपूर्ण मेथड Open तथा Close होते हैं। इस डॉट नेट के साथ कार्य करते समय दो प्रमुख प्रकार के कनेक्शन ऑब्जेक्ट यथा OleDbConnection तथा SqlConnection होते हैं।
  • कमाण्ड ऑब्जेक्ट कई Execute मेथड को व्यक्त करता है जिसका उपयोग कर आप इच्छित कार्य कर सकते हैं। डाटा के स्ट्रीम (प्रवाह) के रूप में परिणामों को लौटाते समय ExecuteReader का उपयोग DataReader ऑब्जेक्ट को लौटाने में होता है। ExecuteScalar का उपयोग कर सिंगलनन (Singleton) मान लौटाते हैं। इसी प्रकार ExecuteNonQuery का उपयोग कर वैसे कमाण्ड को एक्जिक्यूट करते हैं, जो पंक्तियों को रिटर्न नहीं करते हैं।
  • OleDbCommand क्लास एस. क्यू. स्टेटमेन्ट या स्टोरड प्रॉसीजर को व्यक्त करता है जो एक डाटा सोर्स के बदले एक्जिक्यूट करता है।
  • SqlCommand क्लास Transact-SQL स्टेटमेन्ट अथवा संग्रहित प्रोसीजर को व्यक्त करता है जो एस. क्यू. एल. सर्वर डाटाबेस के बदले में एक्जिक्यूट होता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया जा सकता है। SqlCommand के इन्स्टैन्सेज (instances) के बनने के पश्चात् read/write प्रोपर्टी उनके प्रारम्भिक मान में सेट हो जाता है।
  • OdbcCommand क्लास डाटा सोर्स के बदले एक्जिक्यूट करने हेतु एस.क्यू.एल. स्टेटमेण्ट अथवा संग्रहीत प्रॉसीजर को व्यक्त करता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया जा सकता है।
  • OracleCommand क्लास डाटा सोर्स के बदले एक्जिक्यूट करने हेतु एस. क्यू. एल. स्टेटमेण्ट अथवा संगृहीत प्रोसीजर को व्यक्त करता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया जा सकता है। Oracle Command डाय के बदले कमाण्ड को एक्जिक्यूट करने के लिए कई मेथड उपलब्ध कराते हैं।
  • DataAdapter का उपयोग डाटा सोर्स से डाटा को प्राप्त करने तथा डाटासेट के अंदर टेबलस को पॉप्यूलेट (populate) करने में होता है। DataAdapter की डाटा सेट में किये गये बदलाव को डाटा सोर्स में सुरक्षित भी किया जाता है। DataAdapter डॉट नेट फ्रेमवर्क डाटा प्रोवाइडर के Connection ऑब्जेक्ट का उपयोग डाटा सोर्स से कनेक्ट करने में होता है। तथा यह डाटा सोर्स से डाटा प्राप्त करने तथा डाटा सोर्स में बदलाव को अपडेट करने के लिए कमाण्ड (command) ऑब्जेक्ट का उपयोग करता है।
  • OleDbDataAdapter क्लास डाटा कमाण्ड्स के एक सेट तथा डाटाबेस कनेक्शन को व्यक्त करता है जिसका उपयोग डाटासेट को भरने तथा डाटा सोर्स को अपडेट करने में होता है। 
  • SqlDataAdapter क्लास डाटा कमाण्ड्स तथा डाटाबेस कनेक्शन के सेट को व्यक्त करता है जिसका उपयोग डाटासेट को भरने तथा एस. क्यू. एल. सर्वर डाटाबेस अपडेट करने में होता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया। डाटासेट को भरने तथा डाटा सोर्स को अपडेट करने में होता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया जा सकता है।
  • OdbcDataAdapter क्लास डाटा कमाण्ड्स, डाय सोर्स कनेक्शन के एक सेट को करता है जिसका उपयोग उपयोग डाटासेट को फील करने तथा डाटाबेस को अपडेट करने में होता है। इस क्लास को इनहेरिट नहीं किया।
Rate this post
Suraj Kushwaha
Suraj Kushwahahttp://techshindi.com
हैलो दोस्तों, मेरा नाम सूरज कुशवाहा है मै यह ब्लॉग मुख्य रूप से हिंदी में पाठकों को विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर टेक्नोलॉजी पर आधारित दिलचस्प पाठ्य सामग्री प्रदान करने के लिए बनाया है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
spot_img
- Advertisement -

Latest Articles