OMR, OCR एवं MICR क्या होता है | What is OMR, OCR and MICR – Best Info Scanner In Hindi

OMR, OCR एवं MICR क्या होता है | What is OMR, OCR and MICR – Best Info Scanner In Hindi

OMR, OCR एवं MICR क्या होता है – जिन  डिवाइसों का प्रयोग डेटा और निर्देशों को कम्प्यूटर में प्रविष्ट करने के लिए किया जाता है, वे सभी डिवाइस आगम अथवा इनपुट डिवाइस कहलाती हैं।

OMR का पूरा नाम है-ऑप्टिकल मार्क रीडर। यह एक ऐसी डिवाइस है, जो किसी कागज पर किसी पर पेन्सिल अथवा पेन के चिन्ह की उपस्थिति की जांच करती है। किसी भी परीक्षा की उत्तर-पुस्तिका को जांचने की यह आधुनिकतम विधि है। इन परीक्षाओं के प्रश्नपत्र में प्रश्न वैकल्पिक होते हैं। इनमें परीक्षार्थी को प्रश्न के उत्तर के रूप में दिए गए निश्चत संख्या के विकल्पों में से वांछित उत्तर के बॉक्स को पेन्सिल से भरना होता है। इस प्रकार चिन्हित उत्तर पुस्तिका की शीट पर प्रकाश डाला जाता है और परावर्तित (Refelected) प्रकाश की जांच की जाती है।

उत्तर पुस्तिका के जिस विकल्प को परीक्षार्थी ने पेन्सिल से चिन्हित कर दिया होगा, उस भाग से परावर्तित प्रकाश की तीव्रता शीट के अन्य भागों की अपेक्षा कम होगी। इस डिवाइस द्वारा मुद्रित कार्ड्स अथवा फॉर्स पर निश्चित स्थान पर बने बॉक्सेज़ तथा पेन्सिल द्वारा चिन्हित अथवा भरे गये बॉक्सेज़ की ही जांच की जा सकती है। OMR की डेटा ट्रान्सफर दर लगभग 200 से 250 पृष्ठ प्रति मिनट ही होती है।

OCR का पूरा नाम ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकॉगनेशन है। यह एक ऐसी तकनीक है, जिसमें छपे हुए कैरेक्टर्स में परस्पर तुलना करके OCR के मानक कैरेक्टर्स को पहचाना जाता है। कम्प्यूटर में स्थित OCR-A तथा OCR-B फॉन्ट को OCR स्टेण्डर्ड कहा जाता है। ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकॉगनाइज़र में स्थित फोटो इलैक्ट्रिक डिवाइस इन कैरेक्टर्स को स्कैन करती है और परावर्तित प्रकाश के डेटा को बायनरी डेटा में परिवर्तित करके कम्प्यूटर में प्रविष्ट कर देती है। कम्प्यूटर में इनकी पहचान OCR स्टैण्डर्ड फॉन्ट से की जाती है। इस उपकरण की सामन्य गति लगभग 1500 से 3000 कैरेक्टर्स प्रति सेकेण्ड होती है।


MICR का पूरा नाम मैगनेटिक इंक कैरेक्टर रिकॉगनेशन है। इस डिवाइस का प्रयोग बैंकों में चैकों को पढ़ने के लिए किया जाता है। चैक पर धनराशि को एक विशेष प्रकार की स्याही से मुद्रित किया जाता है। जिस-जिस स्थान पर इस स्याही का प्रयोग होता है, उस स्थान पर चुम्बकित कण उपस्थित हो जाते हैं। MICR रीडर द्वारा इन चैकों को पढ़ने पर ये कण विद्युत धारा उत्पन्न करते हैं। इस विद्युत धारा की सहायता से MICR रीडर चैक की धनराशि को पढ़ लेता है। यह डिवाइस उन चैकों को भी पढ़ जिनके ऊपर मुहर आदि लग चुकी हों। यह डिवाइस एक मिनट में लगभग 1200 चैकों को पढ़ सकती है।

OCR एवं MICR क्या होता है –

OMR, OCR एवं MICR क्या होता है | What is OMR, OCR and MICR – Best Info Scanner In Hindi
OMR, OCR एवं MICR क्या होता है | What is OMR, OCR and MICR – Best Info Scanner In Hindi

स्कैनर (Scanner)
स्कैनर का प्रयोग किसी ग्राफिक इमेज को कम्प्यूटर में इनपुट करने के लिए किया जाता है। आकार एवं उपयोग के आधार पर स्कैनर्स तीन प्रकार के होते हैं-हेण्डी स्कैनर्स, फ्लैटबेड स्कैनर्स तथा ड्रम स्कैनर्स। नीचे दिए गए चित्र-8 में एक हैण्डी स्कैनर दर्शाया गया है। इस स्कैनर को वांछित ग्राफिक इमेज पर रखकर ऊपर से नीचे की ओर खींचा जाता है। इसे खींचते समय इसकी साइड में दिया गया बटन दबा लिया जाता है, इससे इसमें इमेज पर चलते समय एक लाइट जलती है। स्कैनर में लगे लेन्स और प्रकाशस्रोत इमेज को फोटोसेन्स करते हैं। परावर्तित प्रकाश से यह इमेज को कम्प्यूटर में इनपुट कर देता है।

इस प्रकार का स्कैनर सामान्यतः 4 इंच 5 इंच चौड़ी इमेज को ही स्कैन कर सकते हैं। इसमें स्कैनर को खींचते समय हाथ के हिलने से स्कैन की गई इमेज भी क्षतिग्रस्त हो सकती है। इन परेशानियां से बचने के लिए फ्लैटबेड स्कैनर का प्रयोग किया जाता है। यह स्कैनर Letter आकार अर्थात् 8.5 इंच चौड़ी तथा 11 इंच लम्बी इमेज को भी स्कैन कर सकता है। इस स्कैनर में एक फोटोस्टेट मशीन की भांति इमेज को इसमें रख दिया जाता है। इससे स्कैन की जा रही इमेज के इनपुट के समय क्षतिग्रस्त होकर इनपुट की सम्भावना ही नहीं रहती। इस स्कैनर से अपेक्षाकृत उच्च गुणवत्ता भी प्राप्त की जा सकती है।

OCR एवं MICR – यदि स्कैन की जाने वाली इमेज का आकार इससे बड़ा है अथवा इससे अधिक गुणवत्ता चाहिए तो इसके लिए ड्रम स्कैनर का प्रयोग किया जाता है। इसकी गुणवत्ता अर्थात् इमेज की रिजॉल्यूशन को DPI (Dots per Inch) में मापा जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here