Saturday, July 24, 2021

कंप्यूटर में कर्सर क्या होता है – माउस कर्सर के प्रकार और उसका कार्य | What is cursor in computer – types of mouse cursor and its Best function

कंप्यूटर में कर्सर क्या होता है – माउस कर्सर के प्रकार और उसका कार्य | What is cursor in computer – types of mouse cursor and its function

कंप्यूटर में कर्सर क्या होता है – मॉनीटर की स्क्रीन पर टिमटिमाती हुई एक छोटी-सी रेखा प्रदर्शित होती है। यह रेखा वह स्थान दिखलाती है जहां पर टाइप किया हुआ अक्षर स्क्रीन पर प्रदर्शित होगा। यह कर्सर (Cursor) कहलाता है। कई बार अधिक सूचना दिखाते समय अर्थात् स्क्रॉलिंग करते समय सूचना मॉनीटर के पटल पर तेजी से ऊपर चढ़ती जाती है और पढ़ने में नहीं आती। Scrol Lock कुंजी को एक बार दबाने पर स्क्रॉलिंग रुक जाता है और उससे सम्बन्धित LED प्रकाशमान हो जाता है। Scroll Lock कुंजी को दोबारा दबाने पर स्क्रॉल पुन: चालू हो जाता है।

स्क्रॉलिंग (Scrolling)

की-बोर्ड पर कोई भी एक ‘की’ के दबाते ही उसका अक्षर कर्सर वाले स्थान पर दिखाई देने लगता है और कर्सर एक स्थान आगे सरक जाता है। लाइन पूरी हो जाने पर कर्सर अपने आगे अगली लाइन के प्रारम्भ में आ जाता है। टाइप करते-करते जब मॉनीटर का पटल पूरा भर जाता है और अगली लाइन का प्रारम्भ होता है, तब सबसे ऊपर वाली लाइन लुप्त हो जाती है और बाकी सारी लाइनें एक लाइन ऊपर सरक कर निचली लाइन के लिए स्थान बना देती हैं। इस क्रिया को स्क्रॉलिंग (Scrolling) कहा जाता है। स्क्रॉलिंग होने पर ऊपर की लाइनें एक-एक करके लुप्त होती जाती हैं और नीचे अगली लाइनें प्रकट होती जाती हैं।

कर्सर मूवमेन्ट ‘कीज़’ पर तीर के चिन्ह बने होते हैं। ये कर्सर को स्क्रीन पर बाएं दाएं, ऊपर और नीचे लाने-ले जाने के लिए प्रयोग की जाती हैं। इनसे कर्सर को एक बार में एक लाइन अथवा एक करैक्टर की दूरी तक ले जाया जाता है। इसके अतिरिक्त अन्य कर्सर मूवमेन्ट ‘कीज़’ Home, End, Pg Up, Pg Dn होती हैं। होम ‘की’ (Home Key) कर्सर को किसी लाइन के शुरू में ले जाने के लिए और End ‘की’ कर्सर को लाइन के अन्त में ले जाने के लिए प्रयोग की जाती है। Pg Up ‘की’ का प्रयोग कर्सर को पृष्ठ के नीचे अर्थात् अगले पृष्ठ को प्रयोग करने के लिए किया जाता है।

न्यूमेरिक ‘की’ पैड (Numeric Key Pad) की-बोर्ड की दाईं ओर होता है, इसमें केलकुलेटर जैसी सत्तरह ‘कीज़’ होती हैं। कुछ कीज़ पर अंकों के अतिरिक्त कर्सर कंट्रोल Keys के चिन्ह भी होते हैं। ये दो कार्यों को करने वाली ‘कीज़’ Num Lock के ऑन होने पर ‘नम्बर की’ की भांति काम करती हैं और Num Lock के ऑफ होने पर यह समस्त ‘की’ कर्सर कन्ट्रोल ‘की’ की भांति काम करती हैं। न्यूमेरिक ‘की’ पैड पर बनी आंकिक ‘कीज़’ का प्रयोग Num Lock दबाकर ही किया जा सकता है।

कंप्यूटर में कर्सर क्या होता है

कंप्यूटर में कर्सर क्या होता है - माउस कर्सर के प्रकार और उसका कार्य | What is cursor in computer - types of mouse cursor and its function
कंप्यूटर में कर्सर क्या होता है – माउस कर्सर के प्रकार और उसका कार्य | What is cursor in computer – types of mouse cursor and its function

कम्प्यूटर की-बोर्ड पर टाइप करने में और टाइपराइटर पर टाइप करने में थोड़ी भिन्नता है। टाइपराइटर में अक्सर अंक 1 स्थान पर अक्षर । का अंक, अंक 0 के स्थान पर अक्षर ० का उपयोग किया जा सकता है। कम्प्यूटर में ऐसा नहीं किया जा सकता क्योंकि कम्प्यूटर के लिए प्रत्येक अक्षर का अलग अर्थ है। कम्प्यूटर पर टाइप करते समय गलती हो जाने पर सुधारा जा सकता है।

इस कार्य के लिए Backspace ‘की’ मूवमेन्ट ‘की’ दबाने से कर्सर के बाईं ओर वाला अक्षर मिट जाता है और कर्सर एक अक्षर बायीं ओर सरक जाता है। यह क्रिया कितनी ही बार दोहराई जा सकती है। कर्सर को कर्सर मूवमेंट ‘की’ की सहायता से किसी भी अक्षर पर ले जाकर Del अर्थात् (Del) कुंजी दबाने से वह अक्षर मिट जाता है और दाहिनी ओर के सारे अक्षर एक स्थान बाएं सरक जाते हैं।

कर्सर के बारे में कुछ रोचक तथ्य

कर्सर क्या होता है – जैसा कि नाम से पता चलता है कि कर्सर का मतलब पॉइंटर लोकेशन होता है, जो अभी पॉइंटर कहां खर्च करता है। कर्सर परिणाम क्वेरी पंक्ति से पंक्ति के परिणाम के प्रसंस्करण में मदद करता है। इसका मतलब है कि मौजूदा पंक्ति में पंक्ति द्वारा रिकॉर्ड किए गए रिकॉर्ड या आप एक समय में एक रिकॉर्ड कह सकते हैं। कर्सर कई प्रकार के होते हैं, इनमें से कुछ इस प्रकार हैं:-

  • स्टेटिक कर्सर
  • गतिशील कर्सर
  • फॉरवर्ड ओनली कर्सर
  • कीसेट-चालित

रिकॉर्डसेट के पूर्ण अर्थ को समझने के लिए हम एक सरल अर्थ लेते हैं जो आपको यह समझने में मदद करता है कि कर्सर क्या है और यह कैसे मदद करता है जब हम एक सेलेक्ट स्टेटमेंट को निष्पादित करते हैं, तो यह पंक्तियों की संख्या लौटाता है यह परिणाम पूरी तरह से एक चीज की तरह है। अब सवाल उठता है कि कैसे होगा हम इस परिणाम आउटपुट को लेते हैं और उस परिणाम का एक हिस्सा बनाते हैं ताकि कर्सर इस स्थिति में समस्या को हल करने में मदद कर सके। जब हम एडीओ का उपयोग करते हैं तो कर्सर सिर्फ एक सर्वर साइड रिकॉर्डसेट होता है। एडो में भी कर्सर संभव है।

कंप्यूटर में कर्सर क्या होता है – माउस कर्सर के प्रकार और उसका कार्य

कर्सर की एक और परिभाषा केवल पंक्तियों की एक संख्या है जिस पर पॉइंटर केवल वर्तमान पंक्ति का पहचानकर्ता है और टी-एसक्यूएल कर्सर को अगली पंक्ति में आगे बढ़ने में मदद करता है, कर्सर बनाने और वहां रखरखाव में कोई कथन नहीं आता है।

(1) कर्सर घोषित करें: – घोषित करें कि कर्सर कुछ बुनियादी ऑपरेशन करता है जो कर्सर से संबंधित है। कर्सर के लिए भंडारण को अलग करना पसंद है।

(2) OPEN:- डेटा के साथ कर्सर को भरने के लिए उपयोग किया जाने वाला ओपन स्टेटमेंट और यह डेटा कर्सर को डेटा के साथ संबंध बनाने में मदद करता है।

(3) FETCH: – कर्सर से डेटा को वेरिएबल में लाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला मतलब है कि हम वेरिएबल के साथ कर्सर से डेटा प्राप्त कर सकते हैं।

(4)CLOSE:- क्लोज स्टेटमेंट ओपन स्टेटमेंट के ठीक विपरीत है यह कर्सर से क्लोजिंग एक्शन करता है।

(5) डीललोकेट: – डीलोकेट कर्सर स्टेटमेंट घोषित करने के ठीक विपरीत है।

कर्सर क्या होता है

कर्सर के कुछ नुकसान भी हैं कर्सर राउंडट्रिप लेता है इसलिए काफी नेटवर्क व्यस्त रहता है। कर्सर को संसाधनों के खोने की आवश्यकता इतनी धीमी और समय लेने वाली होती है। और कर्सर का उपयोग करने पर अस्थायी संग्रहण भी बढ़ जाता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles